Breaking News

रिम्स की बड़ी लापरवाहीः ऑपरेशन के दौरान मरीज के पेट में छोड़ दिया था तौलिया, खुलासा हुआ तो मचा हड़कंप

Prity Priya | Nation1 Voice

Updated on : January 31, 2022
5472


रिम्स की बड़ी लापरवाहीः ऑपरेशन के दौरान मरीज के पेट में छोड़ दिया था तौलिया, खुलासा हुआ तो मचा हड़कंप


DIGITAL DESK JHARKHAND:- राँची - डॉक्टरों की लापरवाही को लेकर अक्सर मजाक में कहा जाता है कि ऑपरेशन के दौरान पेट में तौलिया छोड़ दिया। झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स के डॉक्टर ने इस मजाक को सच कर दिया। सरकार की प्रतिष्ठित अस्पताल की यह बड़ी लापरवाही सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है। रिम्स के बड़े अधिकारी भी इस मामले में बोलने से कतरा रहे हैं। एक नीजी अस्पताल में ऑपरेशन के दौरान सरकारी अस्पताल कीइस गंभीर लापरवाही झारखंड के स्वास्थ्य सिस्टम पर बड़ा सवाल खड़े कर रहा है। यह लापरवाही का आरोप रिम्स के प्रसव विभाग पर लगाया जा रहा है। दरअसल, बीते 5 दिसम्बर को रांची मेन रोड की रहनेवाली 28 वर्षीय महिला सीमा  रिम्स में प्रसव के लिए भर्ती हुई। सीमा को प्रसूति विभाग में भर्ती किया गया था।

 गर्भवती सीमा बच्चा उसके पेट में फंस जाने की शिकातयत पर रिम्स लाई गयी थी। रिम्स के स्त्री रोग विभाग की डाक्टर मीना मेहता की यूनिट में उसका इलाज किया गया। चिकित्सकों के कहने पर उसका आपरेशन किया गया। उसकी लेप्रोटॉमी सर्जरी की गयी। 

ऑपरेशन को सफल बताते हुए कुछ दिन बाद उसे अस्पताल से छुट्टी देकर घर भेज दिया गया। लेकिन, सीमा की परेशान खत्म नही हुई।  उसके ऑपरेशन का स्टीच नहीं सुखा और पेट में सर्जरी के लिए किए गए स्थान से रिसाव होता रहा। इसके साथ उसके पेट में दर्द भी शुरू हो गया। दर्द होने पर पीडि़ता सीमा को फिर डा. मीना मेहता से रिम्स लाकर दिखाया गया। डा. मीना ने उसे सर्जरी विभाग में रेफर कर दिया। वहां डॉक्टर ने घाव सूखने के दवा दी। लेकिन, दवा का कोई फायदा नहीं हुआ। इसी बीच परिजन महिला को दिखाने के लिए निजी अस्पताल गए। वहां जब महिला के पेट का स्कैन हुआ तो पता चला कि ऑपरेशन के दौरान डॉक्टरों ने तौलिया पेट में छोड़ दिया था। बरियातू स्थितउस नीजी अस्पताल में महिला का ऑपरेशन कर तौलिया बाहर निकाला गया।

 इस बीच लगभग दो माह तक महिला दर्द से कराहती रही। अब महिला सीमा की हालत स्थिर बतायी जा रही है। मामला सामने आने पर रिम्स में हड़कंप मच गया है। प्रसूति युनिट की इंचार्ज डॉ मीना मेहता ने कहा है कि महिला उनकी यूनिट में ही भर्ती थीं। गायनी में ऑपरेशन ऑन कॉल सर्जन को बुलाकर किया जाता है। पता कराया जा रहा है कि लापरवाही किस स्तर पर हुई है। इधर, परिजनों ने कहा है कि ऑपरेशन के वक्त डॉ मीना खुद मौजूद थीं



leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...

फेसबुक पर लाइक करें

ट्विटर पर फॉलो करें


अन्य सभी ख़बरें पढ़ें...

मनोरंजन सभी ख़बरें पढ़ें...

खेल-जगत सभी ख़बरें पढ़ें...

व्यापार सभी ख़बरें पढ़ें...