Breaking News

पत्नी के साथ ताजमहल घूमेंगे ट्रंप

Garima Bharti | Nation1 Voice

Updated on : February 23, 2020


पत्नी के साथ ताजमहल घूमेंगे ट्रंप


डेस्क,नेसन वन वाइस: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप आगरा में दो घंटे रुकेंगे। सोमवार शाम 4.45 बजे ट्रंप का एयरफोर्स वन विमान खेरिया हवाई अड्डे पर उतरेगा। यहां से ट्रंप का काफिला होटल अमर विलास के लिए रवाना होगा। ट्रंप और मेलानिया गोल्फ कार्ट से 5.15 बजे ताजमहल पहुंचेंगे। वे ताजमहल में करीब एक घंटा रुकेंगे।

ताज में ट्रंप और मेलानिया पूर्वी गेट से प्रवेश करेंगे। यह पूर्व की ओर है। पहले इसका नाम फतेहाबादी दरवाजा था। ताजमहल में इसे सबसे आखिर में बनाया था। ताज में तीन गेट हैं। पूर्वी और पश्चिमी एकरूप हैं। दक्षिणी गेट अलग है। तीनों गेट लाल पत्थर के बने हैं।

ट्रंप मेलानिया ताज के अंदर वाहन से जाएंगे। वे जिलूखाना या फोरकोर्ट में उतरेंगे। यह रॉयल गेट के ठीक सामने हैं। यहां वर्ष 2000 से पहले तक आम लोगों को भी वाहन ले जाने की अनुमति थी। 1980 तक को वाहनों की पार्किंग यहीं होती थी। जिलूखाना में 128 कमरे चारों ओर बने हैं।

फोरकोर्ट के बाद ट्रंप और मेलानिया ताज के मुख्य प्रवेश द्वार में प्रवेश करेंगे। रॉयल गेट के प्लेटफार्म से ही ताज की पहली झलक निहारेंगे। लाल पत्थरों के साथ सफेद संगमरमर से तामीर कि या गया गेट दक्षिणी दिशा में है।

रॉयल गेट से ट्रंप गुंबद की ओर वाटर चैनल के बांयी ओर से चलेंगे। बीचोबीच संगमरमर से बना सेंट्रल टैंक है, जिस पर चार संगमरमरी बेंच हैं जिन्हें लार्ड कर्जन ने 1908 में ताजमहल में लगाया था।

1961 में ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ पति प्रिंस फिलिप केसाथ आई और इसी सीट पर बैठकर फोटो खिंचवाई लेकिन उनके नाम से सीट का नाम नहीं पड़ा। इसे डायना सीट नाम मिला 1992 में ब्रिटेन शाही परिवार की राजकुमारी डायना के इस पर बैठकर फोटो खिंचवाने से। 

ट्रंप और मेलानिया सेंट्रल टैंक से वाटर चैनल के पाथवे से होकर मुख्य गुंबद में शाहजहां मुमताज की कब्रें देखने के लिए चमेली फर्श पहुंचेंगे। चमेली फर्श लाल पत्थर से बना है। यहीं से गुंबद पर जाने के लिए संगमरमर की सीढ़ियां हैं।

ट्रंप पत्नी मेलानिया के साथ मुख्य गुंबद पहुंचेंगे, जहां 6.5 फुट ऊंचे दरवाजे से गुंबद के अंदर जाएंगे। यहां बीच में ही मुमताज की कब्र की प्रतिकृति है, जिसके पास शाहजहां की कब्र की प्रतिकृति है।  कब्रों के चारों ओर संगमरमर की जाली है, जहां 1643 तक सोने की जाली हुआ करती थी। इन कब्रों के ऊपर ब्रिटिश वायसराय लार्ड कर्जन द्वारा मिस्र से मंगवाया गया फानूस है।



leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...

फेसबुक पर लाइक करें

ट्विटर पर फॉलो करें


अन्य सभी ख़बरें पढ़ें...

मनोरंजन सभी ख़बरें पढ़ें...

खेल-जगत सभी ख़बरें पढ़ें...

व्यापार सभी ख़बरें पढ़ें...