Breaking News

कोरोना महामारी से लड़ने में भारत की मदद करेगी ये दवा

Garima Bharti | Nation1 Voice

Updated on : May 22, 2020


कोरोना महामारी से लड़ने में भारत की मदद करेगी ये दवा


डेस्क,नेसन वन वाइस: दिग्गज अमेरिकी दवा कंपनी गिलयिड साइंसेज ने अपनी एंटी वायरल दवा रेमडेसिवीर को भारत में बेचने की इजाजत मांगी है. रेमडेसिवीर दवा को चिकित्सकीय परीक्षणों में कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज में बेहद प्रभावी माना जा चुका है. इस दवा की मांग दुनिया के सभी देशों में हो रही है. गिलियड साइंसेज ने जल्द ही भारत के केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन के पास आवेदन करने की तैयारी कर ली है.

सूत्रों के मुताबिक गिलियड साइंसेज के अधिकारियों ने बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया के साथ एक चर्चा की है. इस चर्चा का मकसद रेमडेसिवीर को भारत में बेचने का रोडमैप तैयार करना था. सूत्रों का कहना है कि रेमडेसिवीर को लेकर हाल ही में भारत के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक की अध्यक्षता वाले संयुक्त निगरानी समूह की हालिया बैठक में भी चर्चा हो चुकी है. लेकिन उस समय इस दवा से जुड़े पर्याप्त वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं होने के चलते इसका उपयोग कोरोना पीड़ितों के लिए करने की छूट नहीं दी गई थी.

यह दवा उन चार ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल में से एक है, जिनका चिकित्सकीय ट्रायल डब्ल्यूएचओ के एकजुटता परीक्षण के तहत कई देशों में चल रहा है. भारत को भी इस परीक्षण के तहत 1000 खुराक मिली थीं, जिनका प्रयोग विभिन्न राज्यों में मरीजों पर जारी है. सूत्रों ने कहा कि इस दवा को भारतीय राष्ट्रीय ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल में शामिल करने से पहले इन देशों से आने वाले परिणामों का इंतजार किया जा रहा है.

कोरोना मरीजों के इलाज में रेमडेसिवीर दवा को इस्तेमाल करने के लिए यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से मंजूरी मिल चुकी है। यूएसएफडीए ने कंपनी को यह मंजूरी इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन के तहत दी है. यूएसएफडीए की मंजूरी के आधार पर जापान ने भी कंपनी को नियामकीय मंजूरी दे दी है. भारतीय सूत्रों का कहना है कि यूएसएफडीए की मंजूरी के आधार पर हम भी कंपनी को नए दवा और चिकित्सकीय परीक्षण नियम-2019 के तहत खास परिस्थितियों में चिकित्सकीय परीक्षण के बिना दवा की बिक्री चालू कराने की छूट दे सकते हैं.

एक अन्य संक्रामक बीमारी इबोला के इलाज के लिए रेमडेसिवीर को तैयार किया गया था. यह एक न्यूक्लियोसाइड राइबोन्यूक्लिक एसिड पोलीमरेज इनहेबिटर सॉलिड इंजेक्शन है, जिसे जीवाणुरहित पानी और खारे पानी में मिलाकर खुराक तैयार की जाती है. रेमडेसिवीर दवा सीधे वायरस पर हमला करती है. यह न्यूक्लियोटाइड एनालॉग की तरह आरएनए और डीएनए के चार बिल्डिंग ब्लॉक्स में से एक एडेनोसिन को हटाकर खुद को चुपके से वायरस के जीनोम में शामिल कर लेती है और फिर उसकी संचालन प्रक्रिया में शार्ट सर्किट से उसे नष्ट कर देती है.

 

 



leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...

फेसबुक पर लाइक करें

ट्विटर पर फॉलो करें


अन्य सभी ख़बरें पढ़ें...

मनोरंजन सभी ख़बरें पढ़ें...

खेल-जगत सभी ख़बरें पढ़ें...

व्यापार सभी ख़बरें पढ़ें...