Breaking News

पांच राज्यों में होने वाला चुनाव बीजेपी के लिए कितना अहम, क्या बचेगी साख या रचेगा इतिहास ?

Sneha maurya | Nation1 Voice

Updated on : January 08, 2022
1260


पांच राज्यों में होने वाला चुनाव बीजेपी के लिए कितना अहम, क्या बचेगी साख या रचेगा इतिहास ?


DIGITAL DESK NEW DELHI देश की राजनीति के लिहाज से यह साल बेहद खास होने जा रहा है। दरअसल कई अहम राज्यों में विधानसभा चुनाव होने जा रहा है। जिसे 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले सेमीफाइनल समझा जा रहा है। ध्यान देने वाली बात यह है कि इन 5 राज्यों में से 4 राज्यों में भारतीय जनता पार्टी सत्तारुढ़ है, जबकि एकमात्र पंजाब में कांग्रेस का शासन चल रहा है। ऐसे में बीजेपी के लिए ये चुनाव चुनौती भरा होने वाला है, क्योंकि उसकी नजर ना सिर्फ 4 राज्यों की सत्ता बचाने पर होगी, बल्कि पंजाब में भी सत्ता वापसी की कोशिश होगी।

क्या योगी करेंगे वापसी ?

बात शुरू करते हैं उत्तर प्रदेश से। राजनीति के लिहाज से यूपी देश का सबसे अहम राज्य है। यहां योगी आदित्यनाथ राज्य के मुख्यमंत्री हैं और बीजेपी ने लगातार दूसरी बार सत्ता हथियाने के लिए पूरा जोर लगाया है। हालांकि मुख्य विपक्षी दल अखिलेश यादव की अगुवाई में समाजवादी पार्टी राज्य के कई छोटे दलों के साथ समझौता कर चुनावी समर में उतरने को तैयार है। वहीं कांग्रेस के लिए प्रियंका गांधी भी लगातार हाथ-पांव मार रही है।

इन पार्टियों से मिल रही टक्कर के अलावा भी हाल में हुई कई घटनाओं को देखते हुए लगता है कि बीजोपे के लिए यह चुनावी जंग आसान नहीं होने वाली है। अब वक्त बताएगा कि क्या योगी आदित्यनाथ लगातार दूसरी बार शपथ लेने का इतिहास रचेंगे या फिर सत्ता की “सवारी” किसी और के “हाथों” में जाएगी।

उत्तराखंड में बीजेपी की जीत कितनी आसान?

उत्तर प्रदेश के पड़ोसी राज्य उत्तराखंड में भी चुनाव होने जा रहा है। जाहिर सी बात है बीजेपी ने वापसी के लिए हर मुमकिन प्रयास शुरू कर दिया है। हालांकि बीजेपी ने जिस तरह से साढ़े चार साल के अंदर ताबड़तोड़ 3 मुख्यमंत्री बदले हैं, ऐसे में उसकी मुश्किलें बढ़ती ही दिख रही है। फिलहाल पुष्कर सिंह धामी राज्य के मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने चुनाव से करीब 7-8 महीने ही कुर्सी संभाली है, ऐसे में चुनाव पार्टी शीर्ष नेतृत्व के दम पर लड़ेगी।

इधर कांग्रेस भी लगातार कोशिश में है कि 5 साल बाद वह फिर से सत्ता में लौटे। अब राज्य का अगला मुखिया कौनन होगा ये तो जनता ही तय़ करेगी।

किसके हाथ आएगी पंजाब की सत्ता ?

अब बात करते हैं उस एकमात्र राज्य की जिसकी सत्ता कांग्रेस के हाथ में हैं। पंजाब में कांग्रेस सत्तारुढ़ दल है, जो पार्टी को अंदरुनी झगड़ों से जूझ रही है। पंजाब में पार्टी का “पंगा” इतना बढ़ा कि अंतिम साल में कांग्रेस को कैप्टन अमरिंदर सिंह की जगह चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाना पड़ा। मुख्यमंत्री पद छोड़ने के बाद कैप्टन अमरिंदर पार्टी से बेहद खफा हुए और अलग होकर नई पार्टी ही बना डाली। 

अब इतनी बड़ी फूट और उसपर भी रोज की किचकिच, कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी बाधा साबित हो सकती है। उसपर आम आदमी पार्टी और शिरोमणी अकाली दल व बसपा गठबंधन राज्य में सत्ता हासिल करने के लिए जोर आजमाइश कर रहा है।वहीं बीजेपी ने भी कैप्टन अमरिंदर की नई पार्टी और अकाली दल के एक अन्य गुट से गठबंधन कर लिया है। जो कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ाने के लिए काफी है।

 

क्या गोवा और मणिपुर में बचा पाएगी बीजेपी अपनी साख ?

पंजाब यूपी और उत्तराखंड के अलावा दो छोटे राज्यों गोवा और मणिपुर में भी चुनाव होने हैं। इन दोनों ही राज्यों में भारतीय जनता पार्टी का शासन है। गोवा में प्रमोद सावंत मुख्यमंत्री हैं। चुनाव भी उन्हीं के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। हालांकि इस बार राज्य में चुनाव दिलचस्प होने वाला है क्योंकि राज्य में पारंपरिक प्रतिद्वंद्वी बीजेपी और कांग्रेस के अलावा दो अन्य दल भी चुनाव समर में किस्मत आजमा रहे हैं। आम आदमी पार्टी और तृणमूल कांग्रेस अपने पूरे दमखम के साथ चुनौती पेश करने की तैयारी में है। 

इसी तरह मणिपुर में बीजेपी के मुख्यमंत्री ए बिरेन सिंह हैं और राज्य में भगवा पार्टी के पहले मुख्यमंत्री हैं। अब देखना होगा कि बिरेन सिंह सत्ता बरकरार रखते हैं या फिर कोई नया चेहरा मुख्यमंत्री का पद संभालता है।



leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...

फेसबुक पर लाइक करें

ट्विटर पर फॉलो करें


अन्य सभी ख़बरें पढ़ें...

मनोरंजन सभी ख़बरें पढ़ें...

खेल-जगत सभी ख़बरें पढ़ें...

व्यापार सभी ख़बरें पढ़ें...