92 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह गए खय्याम

Garima Bharti | Nation1 Voice

Updated on : August 20, 2019


92 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह गए खय्याम


डेस्क,नेसन वन वॉइस: 'कभी कभी मेरे दिल में खयाल आता है', 'मैं पल दो पल का शायर हूं' और उमराव जान के सुपर हिट गानों को अपने संगीत से संवारने वाले मशहूर संगीतकार मोहम्मद जहुर खय्याम हाशमी हमारे बीच नहीं रहे. 92 साल की उम्र में सोमवार रात उनका निधन हो गया.उन्होंने मुंबई के एक अस्पताल में अपनी अंतिम सांसें लीं.16 अगस्त  को लंग इंफेक्शन की परेशानी के कारन उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था.उनके निधन के बाद पुरे सिनेमा जगत में शोक की लहर है. उनके निधन पर पीएम मोदी से लेकर सिनेमा जगत की हस्तियों ने शोक ज़ाहिर किया है.

पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा है कि सुप्रसिद्ध संगीतकार खय्याम साहब के निधन से अत्यंत दुख हुआ है.उन्होंने अपनी यादगार धुनों से अनगिनत गीतों को अमर बना दिया.उनके अप्रतिम योगदान के लिए फिल्म और कला जगत हमेशा उनका ऋणी रहेगादुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके चाहने वालों के साथ हैं.

आपको बता दें कि17 साल की उम्र में खय्याम ने बतौर संगीतकार फुटपाथ फिल्म से बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत की थी.खय्याम 'कभी कभी', 'उमराव जान', 'त्रिशूल', 'नूरी' और 'बाजार' जैसी सफल फिल्मों को संगीत संगीत से सजा चुके हैं.

18 फरवरी 1927 को अविभाजित पंजाब में नवांशहर जिले के राहोन गांव में खय्याम का जन्म हुआ था.ख्य्याम ने मधुर धुनों से लगभग पांच दशकों तक लोगों को अपना दीवाना बनाया.संगीत नाटक एकेडमी अवॉर्ड, पद्म भूषण, फिल्मफेयर अवॉर्ड, और नेशनल अवॉर्ड पाने वाले ख्य्याम शुरुआत में संगीतकार नहीं बल्कि एक्टदर बनना चाहते थे.वह 10 साल की उम्र में अपने घर से भागकर चाचा के घर दिल्लीग आए थे.दिल्लीू में उनके चाचा ने उनका दाखिला स्कूवल में करा दिया लेकिन उनकी रुचि गीत संगीत और अभिनय में थी.इसके बाद चाचा ने उन्हेंम संगीत सीखने की अनुमति दे दी.ख्य्याम ने संगीत की अपनी प्रारंभिक शिक्षा पंडित अमरनाथ और पंडित हुस्नलाल-भगतराम से हासिल की.जिसके बाद उन्होंने संगीत की दुनिया को अपना बना लिया औरसफलता की बुलंदियों को हांसिल किया.



leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...

फेसबुक पर लाइक करें

ट्विटर पर फॉलो करें


मनोरंजन सभी ख़बरें पढ़ें...

खेल-जगत सभी ख़बरें पढ़ें...

व्यापार सभी ख़बरें पढ़ें...